Environment Short Notes in Hindi ( पर्यावरण – निबंध)

सभी प्राकृतिक वस्तुये जो पृथ्वी पर जीवन का आधार बनाती है, पर्यावरण के अंतरगर्त आती है । जैसे जल, वायु, सूर्य के प्रकाश, भूमि, अग्नि, वन, पशु, पौंधें, इत्यादि| केवल पृथ्वी ही पूरे ब्रह्माण्ड में एक मात्र ऐसा गृह है, जहाँ जीवन के अस्तित्व के लिए पर्यावरण ज़रूरी है| पर्यावरण के बिना हमारा जीवन सम्भव नहीं है। इसीलिए हमें भविष्य में जीवन की संभावना सुनिश्चित करने के लिए अपने पर्यावरण को स्वस्थ्य और सुरक्षित रखना चाहिए ।यह पृथ्वी पर रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है ।प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए पर्यावरण और जीवित चीजो के बीच नियमित रूप से विभिन्न चक्र घटित होते रहते है । किसी भी कारण से ये चक्र बिगड़ जाते हैं तो प्रकृति का भी संतुलन बिगड़ जाता है, जो की अंततः मानव जीवन को प्रभावित करता है। पर्यावरण हजारो वर्षो से हमें और अन्य प्रकार के जीवो को धरती पर बढ़ने, विकसित होने और पनपने में मदद कर रहा है। मनुष्य पृथ्वी पर प्रकृति द्वारा बनाई गई सबसे बुद्धिमान प्राणी के रूप में माना जाता है। इसीलिए उनमे ब्रह्मांड के बारे में पता करने की उत्सुकता ज्यादा होती है, जो कि उन्हें तकनीकी दृष्टि से उन्नति की ओर ले जाता है। हर व्यक्ति के जीवन में इस प्रकार की तकनीकी और उन्नति दिन-ब-दिन पृथ्वी पर जीवन के संभावनाओं को खतरे में डाल रहा है ।. जिससे हमारा पर्यावरण धीरे-धीरे नष्ट हो रहा है| यह हमारे जीवन के लिए बहुत हानिकारक है , क्योकि प्राकृतिक हवा, मिट्टी और पानी प्रदूषित होते जा रहे हैं| इससे इंसान, पशु, पौधे और अन्य जीवित चीजों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव आना शुरू भी हो गया है। हानिकारक रसायनों के उपयोग द्वारा कृत्रिम रूप से तैयार उर्वरक जो की मिट्टी को खराब कर रहे हैं, परोक्ष रूप से हमारे दैनिक खाना खाने के माध्यम से हमारे शरीर में एकत्र हो रहे हैं। औद्योगिक कंपनियों और सड़कों पर दौड़ते वाहनों से उत्पन्न हानिकारक धुँआ और स्मॉक दैनिक आधार पर प्राकृतिक हवा को प्रदूषित कर रहे हैं ।Iइससे हमें साँस लेना मुश्किल हो गया है। इस व्यस्त, भीड़ और उन्नत जीवन में हमे दैनिक आधार पर छोटी छोटी बुरी आदतों का ध्यान रखना चाहिए । यह सत्य है की हर किसी के छोटे से छोटे प्रयास से हम हमारे बिगड़ते पर्यावरण की दिशा में हम एक बड़ा सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। हम अपने स्वार्थ के लिए और विनाशकारी इच्छाओं को पूरा करने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का गलत उपयोग नहीं करना चाहिए। अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी का विकास करना चाहिए । लेकिन हमेशा यह सुनिश्चित रहे की भविष्य में हमारे पर्यावरण को इससे कोई नुकसान न हो । हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए की नई तकनीक हमारे पारिस्थितिकी संतुलन को बिगाड़ न करे दे ।

2 comments

  1. Abhinav Srivastava says:

    Good Article

    1. admin says:

      Thanks you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *