वाहन बीमा (Vehicle Insurance) प्रीमियम कम कैसे करे :

वाहन बीमा

वाहन बीमा

अक्सर यह देखा  गया है गाड़ी खरीदते समय हम उसके चुनाव पर  ज्यादा Analysis करते है ।  लेकिन  उचित वाहन बीमा कराने में जागरूक नहीं होते है। जिससे गलत बीमा पालिसी का चुनाव कर लेते है।  उनको प्रीमियम ज्यादा देना पड़ता है और साथ ही लाभ भी कम  मिलता  है ।

वर्ष 1988 के अनुसार यदि भारतीय सड़को पर ड्राइव करते है तो कम से कम थर्ड पार्टी इश्योरेंस   कवर करना जरूरी है । अतः आपके पास टू  व्हीलर हो या फोर व्हीलर वाहन है आप वाहन इश्योरेंस को इग्नोर नही कर सकते । अब जब वाहन इश्योरेंस इतना जरूरी है तो क्यो न उसके हर पहलुओं पर विचार किया जाए । इतना अवश्य है । यदि आप वाहन बीमा खरीदते समय जागरूक और सावधान  है तो मोटर इश्योरेंस के प्रीमियम को कम किया जा सकता है  । निम्न कारणों से वाहन बीमा के प्रीमियम को कम किया जा सकता है :

विभिन्न  इश्योरेंस कम्पनियों से तुलना :

मार्केट कॉम्पटीशन के इस दौर में जनरल इंश्योरेंसकी कई कम्पनियाँ है जो वाहन का  इंश्योरेंस करती है । इन कम्पनियाँ की पालिसी भी अलग अलग है । इनके  Benefit को कंपेयर करके एक चार्ट बना कर किसी एक का चुनाव कर सकते है । आज कई कंपनियां ऐसी भी है जो आपके compare चार्ट भी बना कर  देती है जैसे : policybazar.com आपको  बस चुनाव करना है कि किस कम्पनी का इंश्योरेंस करना है । आप स्वयं भी Direct General Insurance  कंपनी से अपने वाहन का बीमा कर सकते है ।

आप अपनी सुविधा के अनुसार  थर्ड पार्टी इंश्योरेंस ले सकते है या फिर कंप्रेहेंसिव इंश्योरेंस ले सकते है ।इसके साथ आप एडऑन या राइडर जुड़वाना चाहते है तो जुड़वा सकते है । जितनी ज्यादा सुविधाएं बढ़ाएंगे बीमा प्रीमियम का भुगतान उतना ही ज़्यादा करना होगा । वाहन बीमा न करने पर सरकार 2000 रुपये का जुर्माना लगाता  है या तीन माह तक कि कैद है । इसके अतिरिक्त आपकी गाड़ी से किसी का एक्सीडेंट हो जाता है तो जुर्माने के अतिरिक्त हर्जाना भी देना पड़ता है ।

सिक्योरिटी को महत्व दे :

गाड़ी का इंश्योरेंस कराते समय सिक्योरिटी किस प्रकार की दी जा रही है ।उस पर भी ध्यान दे ।
कुछ सेफ्टी गजट  जैसे ABS ,Anti Pact Theft डिवाइस आदि मोटर बीमा पॉलिसी आपको वाहन के प्रीमियम में 5% से 10% की छूट मिल सकती है ।

नो क्लेम बोनस को समझे :

पॉलिसी के तहत एक साल में छोटी मोटी दुर्घटनाये या क्षति का दावा नही किया जाए तो बीमा कम्पनियां नो क्लेम बोनस को रिवार्ड देती है । सुरक्षित डाइविंग करके आप बीमा प्रीमियम को कम कर सकते है । यह बोनस 20% से शुरू होकर 50 % तक पहुंच जाता है ।

एड आन :

कवर के साथ एडऑन आपको संकट की स्थिति में मदद करता है । इसको जोड़कर उच्च प्रीमियम को कम किया जा सकता है । इसमें इंजन सुरक्षा और वाहन के कई महत्वपूर्ण पार्ट शामिल होते है ।

सही वाहन बीमा का चुनाव करे :

पॉलिसी वही लेनी चाहिए जो आपके बजट के अनुकूल हो । यदि आप जहां रहते है वहां बाढ़ या पानी का खतरा न हो तो एडऑन कराने की जरूरत नही है । एक साल बीत जाने पर वाहन की वैल्यू कम हो जाती है अतः जीरो डेप इंश्योरेंस की जरूरत नही है । साधारण वाहन बीमा लेकर आप प्रीमियम को कम कर सकते है । सिर्फ New Vehicle में ही जीरो डेप पालिसी लाभप्रद है ।
———————————————————————————————————————————-

वाहन बीमा सम्बन्धित जानकारी के लिए आप कमेंट कर सकते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *