Osho ke Anmol Vichar :ओशो के अनमोल विचार :

Osho ke Anmol Vichar :ओशो के अनमोल विचार :
ओशो को आचार्य रजनीश के नाम से जाना जाता है ।
ये एक भारतीय विचारक और धर्मगुरु के रूप में जाने जाते है ।
ओशो ऐसा व्यक्त्तिव है, जो हमारी रूढ़ पड़ती विचारधारा  में क्रांतिकारी परिवर्तन लेकर आये ।उन्होंने आधुनिकता का नया रंग दिया । एक नई सोच पैदा की । धर्म और आस्था के अंधे सच को उजागर किया और वास्तविकता का नया रूप प्रस्तुत किया । ओशो ने वैज्ञानिक सोच ( Scientific ideas) को विकसित किया । उन्होंने  आस्था और परम्परा से ज्यादा बुद्धि और व्यवहारिकता को महत्व दिया । साथ ही तार्किक( Logically) दृष्टि  से उसे सही साबित  किया । तभी उन्हे भारत समेत अनेक यूरोपीय देशों  में ख्याति प्राप्त हुयी । देश और विदेशों में उनके लाखों फॉलोवर है ।

जीवन परिचय :

जन्म- चंद्रमोहन जैन/ ओशो/ आचार्य/भगवान रजनीश  (19 दिसम्बर 1931)
कुचवाड़ा ग्राम ,रायसेन, जिला भोपाल (मध्यप्रदेश)

शिक्षा : पोस्ट ग्रेजुएट ,सागर यूनिवर्सिटी (1957)

मृत्यु : 19 जनवरी 1990 (59 वर्ष)

मूवमेंट : ओशो इंटरनेशनल फाउंडेशन ।

बुक प्रकाशित : 600 ।

 

ओशो के अनुमोल विचार :

1.

“किसी भी तरह प्रतिस्पर्धा करने की आवश्यकता नही ।आप स्वयं में जैसे है ,एकदम सही है । खुद को स्वीकारिये ।”

2.

“मित्रता का शुद्धतम रूप प्रेम है । ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है । जहां कुछ भी नही माँगा जाता । कोई भी शर्त नही होती ,जहां बस देने में आनंद है ।”

3.

“प्रार्थना और ध्यान इंसान के लिए बहुत जरूरी है । प्रार्थना में भगवान आपकी बात सुनते है और ध्यान में आप भगवान की बात सुनते हो ।”

4.

“एक महिला विश्व की सबसे सुन्दर कृति है ।उसकी किसी से भी तुलना न करे ।भगवान द्वारा की गयी यह एक उत्कृष्ट कृति है ।”

5.

“प्रश्न ये नही है कि क्या मृत्यु के बाद भी ज़िन्दगी रहेगी । प्रश्न तो यह यह है कि आप मृत्यु से पहले  जिन्दगी जी सकोगे ।”

6.

“बुद्धि कभी भी एक सीमा में रहने से नही बढ़ती, बुद्धि तो प्रयोगों से बढ़ती है ।बुद्धि हमेशा चुनौतियों को अपनाने से बढ़ती है ।”

7.

” ठोकरे खाकर भी न संभले तो मुसाफ़िर का नसीब ,वरना पत्थरो ने तो अपना फ़र्ज निभा दिया था ।”
8.

“दुःख पर ध्यान दोगे तो हमेशा दुखी रहोगे । सुख पर ध्यान देना शुरू करो ।क्योकि तुम जिस पर ध्यान देते हो ,वह चीज सक्रिय हो जाती है ।ध्यान सबसे बड़ी कुंजी है ।”

9.

” अधिक से अधिक भोले ,कम ज्ञानी और बच्चों की तरह बनिए ।जीवन को मजे के रूप में लीजिए ,क्योकि वास्तविकता में यही जीवन है ।”

10.

” यदि आप खुद अपनी कंपनी का आनंद नहीं ले लेते ।तो कोई दूसरा उससे आनंदित कैसे रह सकता है ।”
11.

“वह इंसान  जो भरोसा करता है ।वह ज़िन्दगी में आराम करता है ।जो इंसान जो भरोसा नही करता ,वह परेशान ,डरा हुआ और कमजोर होता है ।”

12.

“मनुष्य की भाषा में प्रेम से बड़ा कोई शब्द नहीं है ।उस एक शब्द को जिसने जान लिया उसने सब जान लिया ।”

13

“तुम्हारा आज सुख है तो कल भी तुम्हारा सुखी होगा । अगर आज दुःख होंगे तो कल भी दुखमयी होगा । इसलिए आज में ही जीओ ।उसे सुखी बनाओ ।”
14.”अपने जीवन को संगीतपूर्वक बनाओ ।ताकि काव्य का जन्म हो सके ।फिर सौंदर्य ही सौंदर्य है और सौंदर्य ही परमात्मा का स्वरूप है ।”

15.”कभी ये मत पूछो कि मेरा सच्चा दोस्त कौन है ?
पूछो क्या मै किसी का सच्चा दोस्त बन सकता हूँ ।”

16

“जीवन ठहराव और गति के बीच का संतुलन है
।”

17.

“प्रेम तब खुश होता है ,जब वह कुछ दे पाता है ।अहंकार तब खुश होता है , जब वो कुछ ले पाता है।”

18.

“सवाल यह नही है कि कितना सीखा जा सकता है-उसके उलट सवाल यह है कि कितना भुलाया जा सकता है ।”

19.

“जब मै कहता हूँ कि आप देवी -देवता है ,तो मेरा मतलब है कि आपमें अनंत सम्भावनाये है । आपकी क्षमताएँ अंनत है ।”

20.

” प्रेम  का लक्ष्य सदा परमात्मा है । इसलिए तुम जिससे भी प्रेम करो । उसमे तुम्हे परमात्मा की झलक की अनुभूति होने लगेगी ।”

____________________________________________________________________

Related Post :

ए पी जे अब्दुल कलाम के अनमोल विचार : Abdul Kalam Quotes in Hindi 

5 comments

  1. Abhinav says:

    Good one

  2. Anshu Srivastava says:

    Very nice

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *