Net Banking Security In Hindi “ नेटबैंकिंग सिक्योरिटी”

नोटबंदी के  चलते आज अcan-stock-photo_csp5197595धिकतर लोग प्लास्टिक कार्ड जैसे डेबिड कार्ड ,क्रेडिट कार्ड ,पे टी एम और नेटबैंकिंग के  माध्यम से ख़रीददारी ,मनी ट्रांसफर जैसी टेकनीक का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर कर रहे  है। लेकिन नेटबैंकिंग और इन कार्डो के इस्तेमाल करते समय सबसे बड़ी समस्या सिक्योरिटी की है। यदि आप कुछ सावधानियो को ध्यान मे रखे तो इनके  खतरों से  बचा जा  सकता  है:

1 . साइबरकैफ़े ,लाइब्रेरी या ऑफिस मे  ऐसे कंप्यूटर जहाँ एक से अधिक व्यक्ति इसका प्रयोग  करते है। ऐसे स्थान पर,  नेटबैंकिंग के उपयोग  करने से बचे। यदि इसमे कार्य  करना ही पड़े तो  अपना काम आन  लाइन  करने के उपरांत  ब्राउजर बन्द दे, साथ ही  साइन ऑफ और लॉग ऑफ करना न भूले। ब्राउज़र की  हिस्ट्री और टैम्परेरी फाइल  भी डिलीड कर दे।

2 . लुभावने ऑफर जैसे संदिग्ध लिंक से बचे।  फर्जी ईमेल (Phishing Scam) के द्वारा  आपके बैंक अकॉउंट के बारे मे जानकारी मांगी जाती है साथ ही पासवर्ड और पर्सनल   इन्फॉर्मेशन भी  माँगा जाता  है, ऐसे ईमेल से भी बचना चाहिये।

3 . अपने मोबाइल नंबर को  बैंक के  लिंक के साथ जोड़े ताकि बैंक सम्बंधित लेन देन की जानकारी आप तक  एस ऍम एस के द्वारा तुरंत पहुँचे। यदि आपको लगता है कि आपके अकाउंट से पैसे कम हुए है, तो इसकी जानकारी तत्काल अपने बैंक अधिकारी को दे ।

4. पासवर्ड को सिक्योर रखे ,समय समय पर पासवर्ड  बदलते रहना चाहिए। स्ट्रांग पासवर्ड बनाना चाहिए जैसे डिजिटल नंबर और वर्ड मिक्स होना चाहिये , नाम के  साथ 123 जैसे कॉमन पासवर्ड नहीं बनाना चाहिये।डेबिट कार्ड और क्रेडिट  कार्ड के पासवर्ड  को कही  लिखे नहीं बल्कि याद कर ले।  ऐसा करने से कोई इसका मिसयूज़ नहीं कर सकता ।

5 .  अपने कंप्यूटर और लैबटॉप  को वायरस फ्री रखे साथ ही एंटीवायरस अपडेट करे ।   वायरस होने से कंप्यूटर को आसानी से  हैक किया जा सकता है।

 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगे तो कृपया Facebook  या Social Media  में शेयर जरूर करे। आपका यह प्रयास हमे अच्छे लेख लिखने को प्रेरित करेगा। यदि आपके मन में कोई प्रश्न है तो अवश्य पूछे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *